Career in Modeling

एक समय प्रोफेशन के तौर पर मॉडलिंग को अपनाने वालों की संख्या गिनी-चुनी थी। उस समय मॉडलिंग प्राय: शौक या हॉबी के तौर पर की जाती थी। इस कारण अवसर भी सीमित थे। लेकिन अब उपभोक्तावाद के विस्तार, नए टीवी चैनलों के आगमन एवं फैशन के प्रति लोगों के बढ़ते रुझान से मॉडल्स और मॉडलिंग का महत्व बढ़ गया है।

मॉडलिंग को एक ग्लैमरस कैरियर माना जाता है लेकिन केवल ग्लैमर की चकाचौंध के कारण इसे चुनना समझदारी नहीं होगी। मॉडलिंग के पेशे में संघर्ष एवं मेहनत भी कम नहीं है और प्रतियोगिता भी ज्यादा है क्योंकि इस क्षेत्र में आने के इच्छुक लोगों की संख्या लगातार बढ़ रही है। मॉडलिंग के पेशे के लिए उम्र कोई बंधन नहीं है लेकिन फैशन के प्रति युवाओं में ज्यादा रुझान की वजह से इस क्षेत्र में युवाओं की आवश्यकता है। मॉडलिंग में कैरियर के लिए व्यक्तित्व आकर्षक होना चाहिए। बॉडी लैंग्वेज की समझ और कैमरा फै्रंडली होना भी आवश्यक है। सही समय पर चेहरे एवं शरीर में सही भाव प्रदर्शित कर पाना ही मॉडल की सफलता का मानदंड है। जो युवा मॉडल बनने के इच्छुक हैं, उन्हें सबसे पहले अपना पोर्टफोलियो तैयार कराना चाहिए। सभी बड़े शहरों में जाने-माने फोटोग्राफरों के यहां पोर्टफोलियो तैयार कराया जा सकता है। मॉडलिंग के लिए प्रिंट या इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को चुना जा सकता है। फैशन मॉडलिंग या रैंप मॉडलिंग भी विकल्प हो सकते हैं। मॉडलिंग में प्रवेश के लिए कई रास्ते हैं। मुंबई, चेन्नई, बंगलूर, दिल्ली जैसे महानगरों एवं अब लखनऊ, पुणे, चंडीगढ़, इंदौर जैसे शहरों में मॉडलिंग एजेंसियों को विज्ञापन हेतु मॉडल्स की आवश्यकता होती है। बड़े मीडिया हाउस मॉडल्स का पैनल तैयार रखते हैं और आवश्यकतानुसार शूटिंग के लिए बुलाते हैं। विभिन्न पत्रिकाओं के लिए मॉडलिंग का कार्य किया जा सकता है। यदि इस क्षेत्र में आना चाहते हैं तो अपना पोर्टफोलियो प्रतिष्ठित विज्ञापन एजेंसियों, मीडिया हाउसों एवं मॉडलिंग एजेंसियों को भेजें।

मॉडलिंग के कैरियर में पैर जमाने के लिए काफी प्रयासों एवं धैर्य की आवश्यकता होती है। किंतु शुरू की अस्वीकृतियों से हार नहीं मान लेनी चाहिए। पर यह जरूर देख लें कि आपके व्यक्तित्व में वे सब खूबियां हैं, जो मॉडल बनने के लिए आवश्यक हैं। मॉडलिंग में ऑन द जॉब ट्रेनिंग बहुत महत्वपूर्ण होती है क्योंकि आपको हर असाइनमेंट से सीखने को मिलता है। मॉडलिंग में कैरियर स्थाई नहीं होता है। इस कारण दूसरे विकल्प भी रखें। मॉडलिंग से आय असाइनमेंट्स पर निर्भर करेगी। अधिक पसंद किए जाने वाले मॉडलों को कंपनियां अपना ब्रांड एम्बेसेडर भी बना सकती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *