नमस्कार! आपका स्वागत है

यदि आपका व्यक्तित्व आकर्षक है, आत्मीयपूर्ण ढंग से प्रभावी बातचीत करने में माहिर हैं, हर तरह की परिस्थिति में धैर्य और सूझ-बूझ से काम लेते हैं, तो आपके लिए एयर होस्टेस/फ्लाइट स्टीवर्ड एक बेहतर करियर हो सकता है। इसमें खूब पैसा भी है और साथ ही मुफ्त में देश-दुनिया घूमने का मौका भी।

नमस्कार! आपका स्वागत है। कुछ ही समय में विमान उड़ने वाला है। कृपया अपनी सीट बेल्ट बांध लें..। यदि आपने विमान यात्रा की है, तो इस तरह के संबोधन अवश्य सुने होंगे। आकर्षक व्यक्तित्व और मनोहारी मुस्कान के साथ स्वागत करते हुए आवश्यक निर्देश दे रहीं युवतियों से साक्षात्कार कर यात्री अभिभूत हो जाता है। हम बात कर रहे हैं-एयर होस्टेस और फ्लाइट स्टीवर्ड के बारे में। एयर होस्टेस की आकर्षक पर्सनैल्टी, स्मार्टनेस और बातचीत के मोहक अंदाज से हर कोई प्रभावित होता है।

आप ऐसा करियर अपनाना चाहते हैं, जिसमें खूब पैसा हो और आप दुनिया भर की मुफ्त हवाई सैर भी कर सकें, तो इसके लिए आपको एयर होस्टेस या फ्लाइट स्टीवर्ड के रूप में किसी विमान सेवा के केबिन क्रू का सदस्य बनना होगा। इसके लिए जरूरी है-प्रभावशाली व्यक्तित्व, भरपूर आत्मविश्वास, आत्मीयतापूर्ण ढंग से बातचीत की कला में निपुणता और चुनौतियों का सामना करने के विश्वास की। यदि आपमें ये गुण हैं, तो बेहिचक इस क्षेत्र को अपना करियर बना सकते हैं।

कार्य की प्रकृति
एयर होस्टेस/फ्लाइट स्टीवर्ड का काम एक ही तरह का होता है। दरअसल, केबिन क्रू के पुरुष सदस्य को फ्लाइट स्टीवर्ड और महिला सदस्य को एयर होस्टेस कहते हैं। एयर होस्टेस/फ्लाइट स्टीवर्ड का काम सभी यात्रियों की देख-रेख, सुरक्षा और सुविधाएं प्रदान करना है। विमान में प्रवेश करते ही सबसे पहले एयर होस्टेस/फ्लाइट स्टीवर्ड आत्मीयतापूर्ण मुस्कुराहट के साथ स्वागत करते हैं। इसके बाद वे सुनिश्चित करते हैं कि सभी यात्री बिना किसी असुविधा के निर्धारित सीट ग्रहण कर लें। सीट बेल्ट बांधने-खोलने संबंधी निर्देश देने के अलावा वे सुरक्षा संबंधी जानकारी और आवश्यक सुरक्षा उपकरण प्रदान करते हैं। एयर होस्टेस/फ्लाइट स्टीवर्ड समय-समय पर खाना, नाश्ता और पेय पदार्थ परोसते हैं। इसके अलावा वे यात्रियों की पूछताछ का जवाब देते हैं और उनकी शिकायतें भी सुनते हैं।

योग्यता
डोमेस्टिक एयर लाइंस के लिए शैक्षिक योग्यता 10+2 होनी चाहिए। अधिकांश इंटरनेशनल एयरलाइंस ग्रेजुएट को प्राथमिकता देते हैं। आयु सीमा 18 से 26 वर्ष के बीच होनी चाहिए। इसके अलावा इंग्लिश और हिन्दी भाषा में धाराप्रवाह बातचीत करने में कुशल हों। इंटरनेशनल एयर लाइंस के लिए जर्मन, फ्रेंच या स्पैनिश भाषा की जानकारी होना अतिरिक्त योग्यता है। हां, आपके पास वैध पासपोर्ट भी होना चाहिए।

फिजिकल फिटनेस :
एयर होस्टेस (स्त्री) का कद कम से कम 157 सेंटीमीटर और फ्लाइट स्टीवर्ड (पुरुष) का कद कम से कम 170 सेंटीमीटर होना चाहिए। अलग-अलग डोमेस्टिक और इंटरनेशनल एयरलाइंस में निर्धारित कद में मामूली अंतर हो सकता है। शारीरिक वजन कद के अनुपात में हो। आंखों में कोई दोष न हो यानी विजन नॉर्मल हो। इसके अलावा तैरना भी आना चाहिए। शारीरिक रूप से फिट रहने पर प्राइवेट एयरलाइंस में 15-20 वर्ष तक काम कर सकते हैं। हालांकि इंडियन एयरलाइंस और एयर इंडिया जैसी सरकारी एयरलाइंस में स्त्री केबिन क्रू की सेवानिवृत्ति आयु 58 वर्ष और पुरुष सदस्य की आयु 61 वर्ष है, लेकिन यह उनके मेडिकल फिटनेस पर निर्भर है। इन सदस्यों का मेडिकल टेस्ट लगभग हर साल होता है।

चयन प्रक्रिया
एयर होस्टेस/फ्लाइट स्टीवर्ड की परीक्षा में चार चरण होते हैं। पहले चरण में प्रिलिमिनरी इंटरव्यू लिया जाता है, जो मुख्य रूप से पर्सनैल्टी टेस्ट होता है। यदि आप अपने व्यक्तित्व और बातचीत के कौशल से इंटरव्यू बोर्ड को प्रभावित करने में सफल रहते हैं, तो दूसरे चरण के लिए बुलाया जाता है, जिसमें लंबाई, वजन और शारीरिक आकर्षण आदि की जांच-परख की जाती है। तीसरे चरण में ग्रुप डिस्कशन और सेल्फ इंट्रोडक्शन के माध्यम से स्पीकिंग स्किल और कॉन्फिडेंस परखा जाता है। तीनों चरण सफलतापूर्वक पार करने के बाद मेडिकल टेस्ट क्वालिफाई करना होता है।

ट्रेनिंग
चयन के बाद आमतौर पर तीन माह की ट्रेनिंग दी जाती है। इसके तहत कस्टमर सर्विस, सेफ्टी, फ‌र्स्ट एड यानी प्राथमिक उपचार, आकस्मिक लैंडिंग आदि के लिए प्रशिक्षण दिया जाता है। उन्हें उड़ान से संबंधित हर तरह की जानकारी दी जाती है। इसके तहत आवश्यक केबिन क्रू ट्रेनिंग, कम से कम एक विदेशी भाषा-खासतौर पर जर्मन, होटल मैनेजमेंट, इंटरनेशनल टिकटिंग व टूरिज्म, पर्सनैल्टी डेवलपमेंट एवं पब्लिक रिलेशंस, कम्युनिकेशन, कैटरिंग सर्विस, हास्पिटैलिटी आदि की ट्रेनिंग दी जाती है। विभिन्न संस्थानों द्वारा चलाए जा रहे कोर्स करने वाले युवाओं के लिए यह ट्रेनिंग काफी आसान हो जाती है, क्योंकि इन सभी के बारे में उन्हें कोर्स के दौरान ही पूरी जानकारी मिल जाती है।

संभावनाएं
खुले आकाश की नीति लागू होने के बाद भारत में घरेलू और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक दर्जन से अधिक नई एयरलाइंस कंपनियों ने कदम रखे हैं। पर्यटन और कारोबारी गतिविधियां बढ़ने से अन्य देशों में भी एयरलाइंस सेवाएं तेजी से बढ़ रही हैं। विमान सेवाओं की लगातार बढ़ती संख्या को देखते हुए कुशल केबिन क्रू सदस्यों की मांग बढ़ना स्वाभाविक है। स्पाइसजेट में एयर होस्टेस के रूप में काम कर रही दिव्या कहती हैं, इस पेशे में प्रवेश पाने और सफल होने के लिए कॉन्फिडेंस, इफेक्टिव पर्सनॉलिटी और कम्युनिकेशन स्किल बेहद जरूरी है।

वेतन :
डोमेस्टिक एयर लाइन में शुरुआत में एक ट्रेनी को 8 हजार रुपये प्रतिमाह दिए जाते हैं। दिल्ली स्थित एयर होस्टेस एकेडमी की चीफ कंसल्टेंट सपना गुप्ता का कहना है कि एयर होस्टेस/फ्लाइट स्टीवर्ड को तीन माह की ट्रेनिंग के बाद 16-17 हजार रुपये मिलने लगते हैं। अनुभव बढ़ने पर सैलरी 35-40 हजार तक पहुंच जाती है। इंटरनेशनल एयरलाइंस में शुरुआत 35-40 हजार रुपये से हो सकती है, जो दक्षता व अनुभव के आधार पर डेढ़ लाख रुपये तक पहुंच सकती है।

अन्य सुविधाएं :
एयर होस्टेस/फ्लाइट स्टीवर्ड के रूप में आपको दुनिया भर की मुफ्त सैर की सुविधा मिलती है। हां, यह सुविधा आपको अपनी ड्यूटी के रूप में मिलती है। यदि आप इंटरनेशनल एयरलाइंस से जुड़े हैं, तो आपको फ्लाइट के साथ नियमित रूप से विभिन्न देशों में जाने का अवसर मिलता है। सुबह मुंबई में होती है, तो शाम सिंगापुर में। इस दौरान अच्छे होटलों में ठहरने और खाने-पीने की सुविधा मिलती है। यात्रा के दौरान हर तरह के लोगों से इंटरैक्शन भी होता है, जिससे आपका सोशल कांटैक्ट बढ़ता है।

प्रमुख संस्थान
इंडियन एविएशन एकेडमी, रुषभ कॉम्प्लेक्स, ऑफ न्यू लिंक रोड,ओशिवाड़ा, अंधेरी (पश्चिम) मुंबई-400 053
website : www.indianaaviationaca demy.com
एयर होस्टेस एकेडमी, 48, रिंग रोड, लाजपत नगर, पार्ट-3, नई दिल्ली-110024
website : www.airhostessacademy. com
फ्रैंकफिन इंस्टीटयूट ऑफ एयर होस्टेस ट्रेनिंग, 305-308, चौथी मंजिल, जे. एस. आर्केड, डी-1, सेक्टर-18, नोएडा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *